Top Subconscious Mind Secrets






Just as corn kernels create corn and wheat seeds create wheat, the contents of your ideas can have an outcome in your lifetime. You are going to reap That which you sow; this is a legislation.

वह भोली थी मगर ऐसी नादान न थी। मेरी खुमार-भरी आंखे और मेरे उथले भाव और मेरे झूठे प्रेम-प्रदर्शन का रहस्य क्या उससे छिपा रह सकता था? लेकिन उसकी रग-रग में शराफत भरी हुई थी, कोई कमीना ख़याल उसकी जबान पर नहीं आ सकता था। वह उन बातों का जिक्र करके या अपने संदेहों को खुले आम दिखलाकर हमारे पवित्र संबंध में खिचाव या बदमज़गी पैदा करना बहुत अनुचित समझती थी। मुझे उसके विचार, उसके माथे पर लिखे मालूम होते थे। उन बदमज़गियों के मुकाबले में उसे जलना और रोना ज्यादा पसंद था, शायद वह समझती थी कि मेरा नशा खुद-ब-खुद उतर जाएगा। काश, इस शराफत के बदले उसके स्वभाव में कुछ ओछापन और अनुदारता भी होती। काश, वह अपने अधिकारों को अपने हाथ में रखना जानती। काश, वह इतनी सीधी न होती। काश, अव अपने मन के भावों को छिपाने में इतनी कुशल न होती। काश, वह इतनी मक्कार न होती। लेकिन मेरी मक्कारी और उसकी मक्कारी में कितना अंतर था, मेरी मक्कारी हरामकारी थी, उसकी मक्कारी आत्मबलिदानी।

“अच्छा लड़कियों… अब तुम्हारी महारानी आ चुकी है. सुमति कहाँ है? मेरी आज्ञा है कि वो तुरंत मेरे सामने पेश हो और आकर मुझे गले लगाए”, मधुरिमा ने आते ही अपनी हँसने खेलने वाली नौटंकी शुरू कर दी थी.

When you are writing, you should refrain from such a judgment or Assessment and target solely within the composing. There are actually other things to consider also, having said that. Guess once again!

Steady Flash Suppression takes advantage of light-weight-bending glasses to point out persons different photographs in Every eye. One particular eye will get a swift succession of brightly coloured squares that happen to be so distracting that when genuine data is offered to the other eye, the person will not be promptly consciously mindful of it. In reality, it can take quite a few seconds for something which is in concept completely seen to achieve recognition (Except you shut one eye to cut out the flashing squares, Then you can certainly see the 'suppressed' picture immediately).

नमते आंटी! आइये आइये आप ही का इंतज़ार था”, सुमति अपने भाई रोहित की आवाज़ सुन रही थी. आखिर सुमति के सास-ससुर आ ही गए थे. उसने झट से अपने बालो को पीछे बाँधा और उनसे मिलने के लिए बाहर जाने को तैयार हो गयी. “मुझे जल्दी करनी होगी. वरना उन्हें अच्छा नहीं लगेगा कि उनकी होने वाली बहु उनके स्वागत के लिए बाहर तक नहीं आई. पर क्या मुझे यह फिक्र करनी चाहिए? एक औरत को तैयार होने में हमेशा से ज्यादा समय लगता है.. ये तो वो भी जानते होंगे.”, सुमति यह सब सोचते हुए अपने पल्लू और अपनी साड़ी को एक बार ठीक करते हुए पल्लू को हाथ में पकडे बाहर के कमरे की ओर जाने लगी. उसने अपने हाथों से पल्लू को पीठ पर से अपने दांये कंधे पर से सामने खिंच कर ले आई ताकि उसके स्तन और ब्लाउज को छुपा सके. सुमति एक पारंपरिक स्त्री की तरह महसूस कर रही थी इस वक़्त. उसने एक बार चलते हुए खुद को आईने में देखा. “साड़ी तो ठीक लग रही है. शायद रोहित और चैतन्य की तरह मेरे सास-ससुर को भी याद न होगा कि मैं कभी लड़का थी.

अब सभी निकलने को तैयार थे. चैतन्य ने अपनी कार घर के दरवाज़े पर ले आया. उसके पिताजी उसके साथ सामने बैठ गए. और कलावती, सुमति और रोहित एक साथ पीछे. सुमति बीच की सीट में बैठी थी. अब तो उसकी हाइट कम थी तो उसके पैर बीच की सीट में आराम से आ गए. औरत होने का एक फायदा और!, सुमति सोच कर मुस्कुरा दी. वैसे भी वो अपनी शादी की खरीददारी के बारे में सोच कर ही खुश थी. “सुमति बेटा, तुम्हे पता तो है न कि तुम शादी के दिन क्या पहनना चाहोगी?

Here are some other excellent articles or blog posts to study up on that may help you achieve the perfect mind set and catch the attention of good results. Just click here

“दीदी!”, रोहित भी ख़ुशी से बोल पड़ा. दूसरो की तरह रोहित को भी याद नहीं था कि उसका बड़ा भाई भी था कभी जो आज उसके सामने उसकी बड़ी दीदी बनकर खड़ा है.

औरत का बदन भी एक पहेली की तरह होता है जिसे सुलझाना होता है. हर एक अंग पर स्पर्श एक बिलकुल अलग अहसास उस औरत में जगाता है. तभी तो आदमी औरत को हर जगह छूना चाहते है क्योंकि हर स्पर्श से वो औरत कुछ नए अंदाज़ में लचकती है, मचलती है. और सुमति के लिए तो ये स्पर्श का आनंद कुछ अधिक ही था. अब तो वो खुद एक औरत के जिस्म में थी. अपने खुद के more info स्पर्श से ही उसे आनंद मिल रहा था जैसा उसने पहले कभी अनुभव नहीं की थी. और इसलिए उसके अन्दर खुद को छूकर देखने की जिज्ञासा बढती जा रही थी. वो धीरे धीरे अपने तन पर अपनी उँगलियों को सहलाते हुए अपने हर अंग में छुपे हुए आनंद को भोगना चाहती थी.

Believe in you and all you'll be able to be and Allow your subconscious mind manual you. Allow me to know what you think. Do you're feeling your programing is Keeping you back again? What Have you ever performed to alter it?

लेकिन बजाय कि इन संदेह-भरी बातों को सुनकर मेरी बीवी गर्व से सिर उठाये और मेरी तरफ़ उपेक्षा-भरी आंखों से देखकर अपनी साफ़दिली का सबूत दे, उसने सर झुकाए हुए जवाब दिया—मैं उसके पेट में थोड़े ही बैठी थी। भीख मांगने आयी थी भींख दे दी, किसी के दिल का हाल कोई क्या जाने!

अब तो सुमति की Reprogram Subconscious Mind माँ भी सुमति को बेटी के रूप में याद करती है. उसे तो याद तक नहीं कि सुमति उसका बड़ा बेटा थी. क्या ये सब सुमति के सपने सच करने के लिए हुआ है? या फिर इसके कुछ बुरे परिणाम भी होंगे? अब तो समय ही बताएगा.

‘They did this in a variety of strategies, an illustration becoming the expenditure in website university education as well as social affirmation that went with it.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *